Tuesday, 10 January 2012

गम




हर पल किसी के आने की उम्मीद तो रहती थी, ए खुदा मुझे फिर से वोही तन्हाई दे...
न दे चाहे कोई खुशी बस इतना करम कर, मेरा गम मेरे चेहरे पे न दिखाई दे...

No comments:

Post a Comment