Tuesday, 10 January 2012

आंसू




जब भी तन्हाइयों में गम याद आते है, और आँखों में आंसू छलक जाते है...
बस यही सवाल मेरे दिल को सताते है, कि रुलाने वाले ही क्यों याद आते हैं?

No comments:

Post a Comment