Tuesday, 10 January 2012

मंगलमय हो नववर्ष...




पूरब से उतरी किरणें, प्रदीप्त हुआ प्रभाकर नवीन...
आज प्रभात के घाट पर परिदृश्य हैं नवनीत.

पुष्प-कीरीट से शोभित धरा, महकी क्यारी-क्यारी...
शरद ने शृंगार किया, हर्षित है हर डाली-डाली.

इंद्रधनुष के रंग भर, प्रकृति मनाए उत्कर्ष...
भाव भरे जनकल्याण का और कहें सहर्ष.

मंगलमय हो नववर्ष... 
मंगलमय हो नववर्ष...

::: पियूष :::

No comments:

Post a Comment