Tuesday, 10 January 2012

प्रेम पत्र



हेमृगनयनीहेकमल बदनक्या मैं दूं तुमको संबोधन?
प्रथम मिलन की वह वेला, आँखों से खेल क्या तुमने खेला... तेरे नयनो के तीक्ष्ण बाण, मैंने अपने दिल पेझेला


पलको का उठ के गिर जानाधीरे से तेरा मुस्काना... अंगुली में लिपटा कर आंचल तेरा शरमानाघबराना...
अति उत्तम मदमस्त नयन लग रहे थे मधु के प्याले... सोच रहा था मैं बैठाप्रकृति ने अंग तेरेहैं किससांचे में ढाले?
प्रणय निवेदन था मेरातुमने उसको स्वीकार किया... पहना कर बाहों का कंठ हारजीवन मेरा साकारकिया.
तुझमे ही सारा सुख पायापनपा मन में जग से विराग प्रियम... अब तुम ही मेरा जीवन हो तुम में बसतेहै प्राण प्रियम.




अनजाने सुख की इच्छा मे भटके था मन ये अज्ञानी... लगता है सारा जग अँधा ना महिमा प्रेम कीपहचानी...
अक्षय पावन है प्रेम मेरातू लागे ईश्वर से प्यारी... दो आखर का है शब्द प्रेमपर है सब ज्ञानन पर भरी.
किस भांति जताऊं मै तुमकोमन विरह व्यथा में रोता है... जो दर्द ह्रदय में आता हैनित आँखों से बहजाता है.
दूर सही पर पूरक हैतुम सुबह मै किरण पुंज... देखो इतना  इतराओमै भवरा तुम पुष्पकुंज...
तुम सुन्दरता का सार तत्त्व तुम यौवन का अभिमान प्रियमनवजीवन की श्रृष्टि में हीहै जीवन कासम्मान प्रियम!


हे प्रियमयह पत्र नहींअभिव्यक्ति है मेरे मन की...

कर रहा समर्पित प्रेम यज्ञ मेमैं आहूति इस जीवन का...

उठ रही यज्ञ की यह ज्वाला ले जायेगी सन्देश मेरा...

मै रात अमावस की अँधेरी बन के आओ राकेश मेरा...



तुझको अर्पित सब तन मन धनजानू विधि  विधान प्रियम!
तेरे हाथो मे हृदय दियाकरना इसका सम्मान प्रियम!
तेरे हाथो मे हृदय दिया, करना इसका सम्मान प्रियम!

No comments:

Post a Comment